नीं लगदा तां नीं लगदा /सुरेश भरद्वाज निराश

नीं लगदा तां नीं लगदा

भाग-1

क्या करी लैणां भाऊ!
नीं लगदा तां नीं लगदा
दिल मेरा ऐ तिज्जो क्या
नीं लगदा तां नीं लगदा

गलाणा दे लोकां जो
समझाणा दे लोकां जो
बद्धणा दे गल्ल भौएं
मुकाणा दे लोकां जो
दिल मेरा ऐ तिज्जो क्या
नीं लगदा तां नीं लगदा।

खाई छड्डी ए दुनियाँ
मुकाई छड्डी ए दुनियाँ
खरोलणा ढेर कचरे दा
लगाई छड्डी ए दनियाँ
दिल मेरा ऐ तिज्जो क्या
नीं लगदा तां नीं लगदा।

मारा दे टिहडै कुड़ियाँ
झूरा दियाँ ताकैं गुड़ियाँ
अन्ने होयो कैंह मापे
नीं आखीं तिन्ना री खुड़ियाँ

दिल मेरा ऐ तिज्जो क्या
नीं लगदा तां नी लगदा।

होआ दे बलातकार बड़े
बदा दे अत्याचार बड़े
कुसने जाई दुख गलाणा
नीं होंदे सर्मसार मड़े
दिल मेरा ऐ तिज्जो क्या
नीं लगदा तां नी लगदा।

सुरेश भारद्वाज निराश
धौलाधार कलोनी लोअर बड़ोल
पीओ दाड़ी धर्मशाला हिप्र 176057
मो० 9805385225

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *