क्या क्या जतन न किये/संजीव सुधांशु

गजल
क्या क्या जतन न किये मेरे गिराने की खातिर,
वो गिरते ही चले गए खुद को उठाने की खातिर |
नयी राहें नये पडाव ही मंजिल तक पहुंचायेंगे,
पिछड़ जाते हैं जो बदलते नहीं पुराने की खातिर |
वो हमें सपने दिखा रहे हैं चांद के मंगल के,
दिखते नहीं नौनिहाल तडफते खाने की खातिर |मज़हब,जातियां,दंगे,बंद,भ्रष्टाचार न जाने क्या क्या,
होड मची है शैतानों में मां भारती को रूलाने की खातिर |
समां भी है, रिंदों की महफ़िल और दस्तूर भी है,
मयकदे के दर खोल साकिया ला पैमाने पिलाने की खातिर |
किसान भूखा, बुनकर नंगा, मजदूर लाचार है,
हर मजलूम कतार में खड़ा है मेहनताने की खातिर |
कौन कहता है कि जमाने से वफा खत्म हो गई है,
बहुतों को देखा है मिटते हुये याराने की खातिर |
हर किसी के नसीब में विसाले यार कहां सुधांशु,
तमाम रात जलती रही शमा परवाने की खातिर |
संजीव कुमार सुधांशु
गांव व डा. च्वाई त. आनी जिला कुल्लू (हि. प्र.)
7018833244

काव्य महक में आज की खूबसूरत रचनाएँ


ऑनलाइन ई पत्रिका भारत का खजाना में पेश है काव्य महक की खूबसूरत रचनाएँ। आज के रचनाकार हैं
श्री रमेश चन्द्र मस्ताना जी
डॉ सुलक्षणा जी
श्री राजेश पुरोहित जी।

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *