“काल्हू जप्पगा”

नवीन हलदूणवी

औंदिया मलांमता जो कुण ठप्पगा ?
राम – नाम संसार काल्हू जप्पगा ??

अक्कला दे वेस्हाबे फुल्ल खिलदे ,
वज़ीफ़े पढ़ाकुआं जो खूब मिलदे l
आट्टा-चौल़ डीपुआं च मिलै सस्ता ,
वेथौआ अज्ज नीं गरीब खप्पगा ll

बोलणा प्यारे नैं पूजा – पाठ ऐ ,
मेलजोल रक्खणे च बड़ा ठाठ ऐ l
वैर ते वरोधपण ताल्हू मुक्कणा ,
मुंड तां घमंडिये दा जाल्हू नप्पगा ll

बद्दल़े च विजल़ी तां जिंह्यां कड़कै ,
चाणचक्क धरतिया च दंगा भड़कै l
हुंगे जे चौकन्ने असां मित्तरो ,
देस्से दी नीं दुसमण हद्द टप्पगा ll

सचमुच पारखी सवेल्ला सेई गे ,
विंव – लंकार बी पुराणे पेई गे l
कवि कमजोर भाइयो भुल्ली कवता ,
नौंआं “नवीन” छन्द काल्हू छप्पगा ??

औंदिया मलांमता जो कुण ठप्पगा ?
राम – नाम संसार काल्हू जप्पगा ?

नवीन हलदूणवी
09418846773
काव्य-कुंज जसूर-176201,
जिला कांगड़ा, हिमाचल l