(५६)गीत /ग़ज़ल
नवीन हलदूणवी

मेरे प्यारे जग्गू जी,
नीं जुड़दा ऐ झग्गू जी।

स्हाकी खूब जुआड़ा दे,
कप्पू – बोतल – मग्गू जी।

थांईं – थांईं घुम्मा दे,
रोज कपत्ते ठग्गू जी।

लुट्टण लगे समाजे जो,
वेथवे पिच्छलग्गू जी।

कंजक पूज्जण भुल्ली गे,
डीप्फे बड्डे बग्गू जी।

कम्म ‘नवीन’ तरक्की दे,
करदे फींडू-फग्गू जी।

नवीन हलदूणवी
8219484701
काव्य – कुंज जसूर-176201,
जिला कांगड़ा ,हिमाचल प्रदेश।

दिल की कलम / कनगी शर्मा