“सोच”

थी पचुआड़ें खूब घटोई।
चाःदरुये बिच डूड दबोई।।

बुसकी डुसकी गळ गळचुट्टू।
मैं दुनियाँ दे रंग रँगोई।।

जम्मी पाळी चज्ज सखाया।
अम्माँ ते परदेसण होई।।

बापू ढिल्लम्ढिल्ला दुस्सै।
रैंह्दा था जे खूब तणोई।।

भैणा भाऊ रिस्तेदारी।
बेह्ड़ा छड्ड बजोगण होई।।

लोक पराये अपणे होये।
रैह्णां पौंदा हण सँगड़ोई।।

मार डुआरी उडदे पंछी।
पिंजरुआँ बिच जाण हड़ोई।।

रीत रुआज कबल्ले औक्खे।
हर वेल्ले मैं खूब जकोई।।

धीः अम्माँ ते दादी बणियै।
परुआरां बिच जोत जगोई।।

धन्न गलांदे मैह्मा मेरी।
मैं हुण चुक्की भार पथोई।।

मैं मुँडुआँ ते भारी भलया।
मेरा मुल्ल पछाण खड़ोई।।

सोच ‘नवीन’ बणायां सुचड़ी।
धीयां सांह्यैं होर न कोई।।

नवीन शर्मा
गुलेर-कांगड़ा
१७६०३३
📞9780958743