पहाड़ी कविता

माड़ा मोट्टा माप्पी जा ,
हौल़ैं — हौल़ैं छाप्पी जा ।

फुल्ल बगान्ना भोरी जी ,
भौरा खुशबू भाप्पी जा ।

ढोरू ढूणमढूणा जी ,
अन्दरगतिया ताप्पी जा ।

खोट कमाई मौज़ां नैं ,
हर कोई ऐ डाप्फी जा ।

‘नवीन’ कवि बी लोक्कां दा ,
नाज़ – नक्खरा नाप्पी जा ।

खूब तरक्की होणी ऐं ,
नां मालक दा जाप्पी जा।।

नवीन हलदूणवी
09418846773
काव्य-कुंज जसूर-176201,
जिला कांगड़ा , हिमाचल ।

खज्जियार यूँ ही नही कहलाता “मिन्नी स्विट्जरलैंड”

गैरों से दिल लगाना/सुरेश भारद्वाज निराश