अक्कड़ बक्कड़ पांबड़ पौ/नंद किशोर परिमल

अक्कड़ बक्कड़ पांबड़ पौ

अक्कड़ बक्कड़ पांबड़ पौ,
जे सुत्तेया तां जागी पौ ।
जागेया ऐं तां दौड़ तू माणुआ,
दौड़ी न्नै अप्पणे रस्तैं पौ ।
अप्पूं खुद हनेरे चलदा ,
दूएआं जो तूं दिंन्नां लौ ।
अक्कड़ बक्कड़ पांबड़ पौ ।
बेल्ला रौल़ा पाई छड्डेया ,
जीवन पूरा गुआई छड्डेया ।
काह्लु औंगी अक्ल ओ माह्णुआं ,
होस कर किछ हण वी तूं उठी खड़ो ।
अक्कड़ बक्कड़ पांबड़ पौ ।
इस जगे च् आई नैं क्या कम्म कमाया,
दस ?कुस कुस जो तू दित्ती लौ ।
कजो था भेजेया ठौकरे तिज्जो,
दस्स ?क्या क्या तूं खरा कमाया वो ।
अक्कड़ बक्कड़ पांवड़ पौ ।
जे होंदा सैह् करी नैं होंदा,
खुद आई ठौकर किछ नीं दिंदा ।
पर उपदेश कुशल बहुतेरे,
हत्थे अप्पणे वी किछ करी लै वो ।
अक्कड़ बक्कड़ पांबड़ पौ ।
आई इस जगे च् नच्चेया बहुतेरा ,
रैहिएई हण जिंदगी थोड़ी वो ।
हुण तां होस किछ करी लै माह्णुआ,
मत होरनां रिया तूं मैला धोअ।
अक्कड़ बक्कड़ पांबड़ पौ ।
कैह्दी अक्कड़, कैह्दी बक्कड़?
एह जिंदगी तां सचमुच ऐ पांबड़ पौ ।
सौगी तेरिया किछ नीं जाणा,
करनी तेरी ही सौगी जाणी वो ।
अक्कड़ बक्कड़ पांबड़ पौ ।
कदी बुरा कुसी रा नीं करना,
गल्ल ए मेरी गठ्ठी बन्नणी वो ।
परिमल फी बी बोलदा जांदा माह्णु,
अक्कड़ बक्कड़ पांबड़ पौ, अक्कड़ बक्कड़ पांबड़ पौ।
नंदकिशोर परिमल, सेवा निवृत्त प्रधानाचार्य
सत्कीर्ति निकेतन, गुलेर, तह, देहरा जिला, कांगड़ा
हि_प्र, पिन, 176033, संपर्क, 9418187358

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *