लक्ख टके री गल्ल

गल्ल लक्ख टके री मन्नणी मित्तरा,
गल्ल कुसी री अध्बिचकारें कट्टणी नीं।
दैई न्नै अप्पणे हत्थैं चीज कुसी जो,
बादे च् कदी वी सैह् तूं मंगणी नीं ।
एह जेहड़ी गल्लां अज्ज तिज्जो दस्सां ।
कदी कुसी वी तिज्जो एह दस्सणी नीं ।
खरी गल्ल सारेयां री सुणी लैणी मित्तरा ।
बुरी बुराई कुसी री कदी वी मन्नणी नीं ।
चलेयो घराटैं कदी गिट्टा नीं पाणा ,
मनमानी कदीअपणी वी करनी नीं ।
बुरा ,बुराईया सौ सौ करदा चाहें रैह्,
खरी खरिआई अप्पणी तूं छड्डणी नीं ।
हमेशा सच्चो सच्चाईया तैं चल्लणा ,
अमानत कदी वी कुसी री दब्बणी नीं ।
खरे दी खरेआई हमेशा ई रैंहदी ,
बुरे दी गल्ल कदी वी मन्नणी नीं ।
कदी कुसी न्नैं तैं ठगी नीं करनीं ,
सच्चाईया तैं कदी वी डरना नीं ।
ठौकरे तैं हमेशा डरी न्नै रैहणां ,
होर कुसी तैं कदी डरना नीं ।
परिमल बारंबार सचेत करै तिज्जो मित्तरा ,
देश विकासे री राह तैं कदी वी छड्डणी नीं ।
नंदकिशोर परिमल, सेवा निवृत्त प्रधानाचार्य
सत्कीर्ति निकेतन, गुलेर, तह, देहरा, जिला, कांगड़ा
हि_प्र, पिन 176033, संपर्क, 9418187358