सरकार बड़ी ऐ लुट्टा दी
जनता दा दम घुट्टा दी,

ज़ोर जबर दे हुक्मां जो,
लोकां उप्पर सुट्टा दी,

उवाज़ सुणै नी लोकां दी,
पुळस मता ई कुट्टा दी,

अँग्रेजिया पिच्छैं दोड़ा दे,
अपणी भाषा छुट्टा दी,

फोक्की यारी बधदी ऐ,
रिश्तेदारी टुट्टा दी,

जमींन अपणी सम्लोऐ नी,
बाड़ बगाने पुट्टा दी,

नेते साह्न भतेरे फिटयो,
कम्म कमाई लुट्टा दी,

सरकारी पैप गलांदे जी।
जगह जगह ते फुट्टा दी।।

ठाकुर विशाल सिंह
मौलिक अप्रकाशित
7018715504