साडे बापू दी जे शान होंदी,
अपणी भी खास पहचाण होंदी,
ठैहरे पुत अप्पाँ किसान दे,
मिलदा नी धार सानूँ दुकान ते।।
गास अम्वराँ बरसात नी होंदी,
सुक्के खेताँ हरयाली नी ओंदी,
किमाँ अखाँ चार दाने दे दे,
माड़े हाल हो गये सेठाँ दे।।

गल स्यानयाँ जे मनी होंदी,
हरि डाली जे नी बड्डी होंदी,
होणे नी थे हाल माड़े दे दे,
अम्वर जियाँ अज बरहा दे ।।

कठ बतेहरा गल नी होंदी,
मोबाईलाँ लेके लोकी सोंदी,
रोट ठण्डे थाल लगदे रे,
फेसवुकाँ च मित्र बनदे रे।।

कम खरे तरक्की नी होंदी,
चोराँ अगे मालकिन रोंदी,
शासक हो गये लूट लुटेरे,
होणे लगे पाप सन्ताँ दे डेरे।।

चोर चालाकी सफला होंदी,
माँ दी रोटी औलाद है खोंदी,
जागीर लुटदे पे हण दामाद रे,
उलटी जीह्व खोटा हिसाव रे।।
जग्गू नोरिया
Sent from BharatKaKha