नाम की मस्ती/पंडित अनिल

नाम की मस्ती’ ”

सवँर जायेगी ,जब नाम की मस्ती होगी।
सोच ले , ज़िंदगी की क्या हस्ती होगी।।

जागीरें खींचती हैं, दुनिया की लेकिन ।
नाम में मिटना भी, नामपरस्ती होगी ।।

डूब नहीं शक्ती ,सौंप दें उसे अगर ।
हाथ जब उसके , अपनीं कश्ती होगी ।।

क़ीमती बहुत है , अगर ये मिल जाये ।
हर चीज़ दुनिया की,फ़िर सस्ती होगी।।

मुफ़लिसी की बातें, अजी छोड़िये भी ।
लीजिये फ़िर देखिये,क्या बस्ती होगी।।

पं अनिल

अहमदनगर महाराष्ट्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *